May 25, 2022

TheLucknowExpress

बात सिर्फ़ लखनऊ की …..

Indira Nagar से आई दिल दहला देने वाली खबर

 

 

 

इंदिरानगर के मानस विहार में किराए पर रहने वाले बेकरी कारोबारी राजेश बलेचा (39) ने पत्नी श्वेता (34) की गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद खुद को गोली से उड़ा दिया।

गोली चलने की आवाज सुनकर परिवारीजन कमरे की तरफ भागे, लेकिन दरवाजा अंदर से बंद था। सूचना पर पहुंची पुलिस ने दरवाजा तोड़कर शव बाहर निकाला।

पुलिस के मुताबिक, शुरूआती पड़ताल में पारिवारिक कलह में हत्या व खुदकुशी की बात सामने आई है। पिस्तौल के लाइसेंसी न होने की बात भी सामने आई है।

 

प्रभारी निरीक्षक इंदिरानगर डॉ. रामफल के मुताबिक, बेकरी कारोबारी चंद्रमल बलेचा के दो बेटे राजेश व तरुण हैं। राजेश की शादी श्वेता से करीब दस साल पहले हुई थी।

दोपहर करीब तीन बजे तरुण ने सूचना दी कि उनके भाई राजेश के कमरे से गोली चलने की आवाज आई है। दरवाजा अंदर से बंद है।

प्रभारी निरीक्षक के मुताबिक, दरवाजा अंदर से बंद था। दरवाजा तोड़ा गया। फर्श पर श्वेता व राजेश का शव खून से लथपथ पड़ा था। शव देखने के बाद लगा कि राजेश ने पहले पत्नी श्वेता को गोली मारी।

इसके बाद खुद को गोली से उड़ा दिया। श्वेता के सिर में पीछे से मारी गई गोली आरपार हो गई। वहीं राजेश के कनपटी पर गोली के निशान मिले हैं। पुलिस के मुताबिक, पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही साफ हो सकेगा कि किसकी मौत पहले हुई है।

पिता व भाई बेसुध हो गए 

बेटे व बहू का शव देखकर चंद्रमल बेसुध होकर गिर पड़े। वहीं, तरुण भी बदहवास हो गया। पुलिस के मुताबिक, कई बार कार्रवाई के दौरान ही तरुण बेसुध होकर गिर जा रहा था। दोनों के आंख से आंसू गिर रहे थे। यही हाल परिवार के अन्य सदस्याें का भी था।

अवैध पिस्तौल से गोली मारी गई 

प्रभारी निरीक्षक के मुताबिक, दोनों की मौत गोली लगने से हुई है। कमरे में राजेश के शव के पास एक .32 बोर का पिस्तौल मिली है। इसका लाइसेंस परिवारीजनों से मांगा गया तो देेने में असमर्थता जताई। पिस्तौल राजेश के पास कहां से आई, इसके बारे में भी कुछ नहीं बता पाए। पुलिस जानकारी जुटा रही है कि आखिर राजेश को किसने अवैध पिस्तौल दी थी। राजेश ने अगर इसे खरीदा तो कब और किससे? इन सवालों के जवाब पुलिस खंगाल रही है।

पारिवारिक कलह में उजड़ गईं खुशियां 

पुलिस के मुताबिक, परिवारीजनों से पूछताछ में सामने आया कि दंपती में कुछ दिनों से पट नहीं रही थी। श्वेता व राजेश के बीच अक्सर विवाद हुआ करता था। इस पर चंद्रमल और श्वेता के मायके वाले आपस में बैठकर दोनों को समझाते थे। कुछ दिनों बाद दंपती में फिर विवाद होने लगता। स्थिति तलाक तक पहुंच गई थी। लेकिन श्वेता व राजेश का परिवार ऐसा नहीं चाहता था। दोनों की लगातार काउंसिलिंग करते रहे। पुलिस के मुताबिक, राजेश के पिता की तहरीर पर कार्रवाई की जा रही है। वहीं, श्वेता के मायकेवालों ने कोई आरोप नहीं लगाया है। अगर तहरीर देते हैं तो कार्रवाई की जाएगी।

Source – AmarUjala